42 वर्ष मुकद्दमा चलने के बाद सुप्रीम कोर्ट ने बताया कि संबंधित अदालत को मामला चलाने का अधिकार नहीं!

मुंबई के एक फ्लैट मालिक, सालेभाई अलीभाई रंगवाला के उत्तराधिकारियों ने किराएदार से अपना फ्लैट खाली कराने के लिए चार दशक पूर्व कानूनी लड़ाई शुरू की थी। अलीभाई रंगवाला ने दोसाभाई को फ्लैट किराए पर […]

वृद्ध विशेष न्यायाधिकरणों में जाकर देखभाल के लिए दस हजार रुपये प्रतिमाह की मांग कर सकते हैं

भारत के प्रधान न्यायाधीश के जी बालाकृष्णन ने कहा है कि वृद्ध लोगों को उचित सुविधा दिलाने और उनका शोषण रोकने के लिए निजी वृद्धाश्रमों के लिए उपयुक्त दिशानिर्देश बनाया जाना चाहिए। प्रधान न्यायाधीश ने कहा जम्मू […]

ऐसा भी मुकद्दमा,जो आजादी के पहले दर्ज हुआ और अब जाकर 62 साल बाद इसका निपटारा हुआ

देश की विभिन्न अदालतों में तीन करोड़ मामलों के लंबित होने के बीच कानूनी वाद के निपटने में देरी कोई नई बात नहीं है, लेकिन एक ऐसा भी दीवानी मुकद्दमा है जो आजादी के पहले […]

उत्तराधिकारी के तौर पर नामांकित व्यक्ति, संपत्ति के मालिक की मौत के बाद इसका हकदार नहीं

दिल्ली की एक अदालत ने व्यवस्था दी है कि कोआपरेटिव सोसायटी के माध्यम से खरीदी गई एक संपत्ति के उत्तराधिकारी के तौर पर नामांकित कोई व्यक्ति संपत्ति के मालिक की मौत के बाद इसका हकदार […]