सहारा समूह को तगड़ी फटकार

निवेशकों का पैसा ना लौटाने की वजह से सुप्रीम कोर्ट ने 3 दिसंबर को सहारा ग्रुप को कड़ी फटकार लगाई। कोर्ट ने पूछा है कि सहारा 4 दिसंबर तक ये बताए कि लोगों का पैसा कब लौटाया जाएगा। निर्माण कार्यों से जुड़ी सहारा की दो कंपनियों के पास तीन करोड़ निवेशकों के 27 हजार करोड़ रुपये जमा हैं।

गौरतलब है कि सुप्रीम कोर्ट ने अगस्त में ही तीन महीने के अंदर निवेशकों को पैसा लौटाने का आदेश दिया था लेकिन सहारा लगातार टालमटोल का रवैया अपनाए हुए है।

रियल इस्टेट में सहारा ग्रुप की दो बड़ी कंपनियां, सहारा इंडिया रियल इस्टेट कॉरपोरेशन लिमिटेड और सहारा हाउसिंग इनवेस्टमेंट कॉरपोरेशन लिमिटेड की बुरी हालत को देखते हुए सुप्रीम कोर्ट ने अगस्त में आदेश दिया था कि सभी निवेशकों का पैसा तीन महीने में लौटाया जाए। सहारा के ऐसे लगभग तीन करोड़ निवेशक हैं।

सहारा को 27 हज़ार करोड़ रुपया 15 फीसदी ब्याज के साथ तीन महीने में लौटाना था। दस दिन के अंदर निवेशकों की सूची Securities and Exchange Board of India -SEBI को देनी थी लेकिन सहारा ने अब तक इस पर कोई अमल नहीं किया।

सहारा के ढुलमुल रवैये को देखते हुए सुप्रीम कोर्ट ने 3 दिसंबर को कड़ी फटकार लगाई। सहारा अब तक सर्वोच्च नयायालय के फैसले की अनदेखी करता आया है। SEBI ने जब सहारा के खिलाफ कोर्ट की अवमानना की याचिका दाखिल की तो सहारा ने सेबी के खिलाफ ट्रिब्यूनल में याचिका दाखिल कर दी।

सुप्रीम कोर्ट ने इस पर कड़ा एतराज जताते हुए कहा कि सहारा का रवैया बहुत ही खराब है। इन लोगों को जेल भेजा जा सकता है लेकिन निवेशकों का हित भी देखना होगा।

अब सहारा समूह, 4 दिसंबर को सुप्रीमकोर्ट को बताएगा कि वो कब तक निवेशकों का पैसा लौटाएगा।

VN:F [1.9.22_1171]
Rating: 0.0/10 (0 votes cast)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)