लेबर कोर्ट में बिन वकील मुकद्दमा लड़ कर अनपढ़ महिला ने वापस ली नौकरी

labour courtएक अनपढ़ महिला धर्मी देवी ऐसे पढ़े लिखे समाज के लिए प्रेरणा बन गई हैं जो कानून की जानकारी के अभाव में अपने हकों की लड़ाई नहीं लड़ पाते। उन्होने ‘सूचना का कानून अधिकार’ के बलबूते न केवल अपने हक की लड़ाई जीती, बल्कि अपने जैसे सात अन्य लोगों को भी नौकरी वापस दिलवाई है। यह भी कम हैरानी की बात नहीं है कि धर्मी देवी ने अपनी लड़ाई बिना किसी वकील के जीती। 11 साल पार्ट टाइम नौकरी करने वाली धर्मी देवी को BSNL ने गैर कानूनी ढंग से निकाल दिया था। उसके 16 माह के वेतन पर रोक लगा दी थी।

यह रोचक मामला मंडी के गोहर विकास खंड के दूर दराज थारजूण पंचायत की धर्मी देवी का है जिसे बीएसएनएल ने फिर से नौकरी पर रखने के आदेश दिए हैं। उसी की तरह जबरन बाहर किए गए सात अन्य लोगों को भी फिर से नौकरी पर बुला लिया गया है।

श्रम न्यायालय, मंडी ने 28 नवंबर को BSNL को आदेश दिए कि 12 दिसंबर से पहले धर्मी देवी का पिछले 16 महीनों को वेतन दिया जाए। हालांकि अभी तक नौकरी की बहाली के बारे में कोई निर्देश न्यायालय की ओर से नहीं दिए गए थे, लेकिन बीएसएनएल ने गलती सुधारते हुए धर्मी देवी को नौकरी पर रखने के आदेश दिए हैं। जिला श्रम अधिकारी आरएस राणा ने धर्मी देवी सहित आठ लोगों की नौकरी बहाल होने की पुष्टि की है। उन्होंने बताया कि धर्मी देवी को वेतन भी जारी कर दिया गया है। वहीं, धर्मी देवी का कहना है कि इस सारी लड़ाई में आरटीआई कानून उसका काफी मददगार बना।

दैनिक भास्कर में विनोद भावुक की रिपोर्ट है कि धर्मी देवी को जुलाई 2010 में बीएसएनएल ने नौकरी ने हटा दिया था। अगस्त 2010 में उसने आरटीआई के तहत 11 साल काम करने के सबूत जुटाना शुरू किए। अपनी नौकरी से संबंधित दस्तावेज हासिल करने के लिए उसे लंबी प्रदेश सूचना आयुक्त के कार्यालय तक अपनी लड़ाई लड़नी पड़ी। अपनी नौकरी से संबंधित सबूत जुटा कर लेबर कोर्ट मंडी में बीएसएनएल के खिलाफ मामला दर्ज करवाया। लेबर कोर्ट में उसका दावा मजबूत था। कोर्ट की ओर से BSNL के मंडी स्थित जीएम से भी इस बारे में जवाब तलब किया। तब यह बात सामने आई कि सवा साल पहले एक्सचेंज केलोधार में तैनात हुए एसडीओ ने इस वजह से उसे नौकरी से हटा दिया था कि वह महिला कर्मचारी के बजाय पुरुष कर्मचारी को रखना चाहते थे। फिर क्या था! दलित परिवार से संबंध रखने वाली धर्मी देवी को इसी कारण गैर कानूनी ढंग से बाहर का रास्ता दिखाया गया।

अब अदालत के फैसले के बाद बीएसएनएल को आदेश दिए गए थे कि 12 दिसंबर तक वह धर्मी देवी के पिछले वेतन का भुगतान कर दें। उसे पैसे भी मिल गए हैं और नौकरी भी बहाल हो गई है।

VN:F [1.9.22_1171]
Rating: 8.2/10 (5 votes cast)
लेबर कोर्ट में बिन वकील मुकद्दमा लड़ कर अनपढ़ महिला ने वापस ली नौकरी, 8.2 out of 10 based on 5 ratings
Print Friendly, PDF & Email
यहाँ आने के लिए इन मामलों की हुई तलाश:
  • लेबर कोर्ट
  • लेबर कोर्ट के नियम
  • लेबर कोर्ट के नियम 2017
  • लेबर क
  • लेबर कोट
  • लेबर कोट का क्या कानून है
  • Gaziyabad lebar kote address
  • लेबर कोर्ट में परिवाद कैसे करे रिलीविंग के लिए
  • लेबर कोर्ट रूल्स इन हिंदी
  • लेवर कोट का वकील
  • लेवर कोर्ट ke anusaar lewar ke अधिकार

7 thoughts on “लेबर कोर्ट में बिन वकील मुकद्दमा लड़ कर अनपढ़ महिला ने वापस ली नौकरी”

  1. ज्यादा पढ़े लिखे लोग अन्याय के खिलाफ लड़ने से डरते हैं और इसे चुपचाप बर्दास्त करते हैं aur दूसरों के लिए रस्ते में रोड़े लगाने में लगे रहते हैं आर टी आई एक्ट एक ऐसा हथिआर है जिसे हम चाहें और सही इस्तेमाल करें तो कोई भी हक़ की लड़ाई लड़ना मुस्किल काम नहीं है. हम सब को धर्मो देवी से प्रेरणा लेनी चाहिए जिसने बिना वकील के लड़ाई जीती जबकि पढ़े लिखे लोग आछे वकील करने पर भी अपनी लड़ाई नहीं जीत सकते क्योंकि आर टी आई एक्ट का ज्ञान नहीं है.ओर जानना भी नहीं चाहते.
    रवि भाटिया
    रोहतक

    VA:F [1.9.22_1171]
    Rating: +3 (from 3 votes)
  2. में रेखा गुप्ता जुलाई १९९७ से सिटी हार्ट टूर & ट्रेवल (registerd) में कार्यरत हूँ मेरा मालिक मुझे 7 माह से सैलेरी नहीं दे रहा और मुझे मानसिक रूप से परेशान कर रहा है ,पिछले 5 सालों से मेरी सैलरी भी नहीं बड़ाई , मुझे धर्मी देवी का केस पढ़कर प्रेरणा मिली आर .टी. आई. कानून क्या है इसके लिए कहाँ संपर्क करे कृपया मेरी साहयता करे, मेरा ई- मई आई .डी :rekhamittal80 @yahoo .in
    पोस्ट दिनांक १५/०५/२०१४

    VA:F [1.9.22_1171]
    Rating: +2 (from 2 votes)
  3. sir me amarnath varma me bijali ki hol sell ki sop par kam karta tha mene vaha se kam chodd diya mujhe vaha se puri paymant nahi mili jab mene apana pesa manga to malik ne mana kar diya or usi time mene thane complen magar vaha se koi risponse nahi mila jab mene malik ke pas call ki to mujhe kahta he mera kuch bhi nhi kar sakta bata tujhe ghar se uthava dunga ya tere ghar aa ke karu tera hisab or kahta he ki jitana pesa laga sakta he laga dunga tu kucha nahi kar payenga sir es sop par grahk ke sath frod karta he delly lakho ki sell ha or koi tex bhi nahi bharta mere pass call ricoding he jisme mujhe dhamka raha he .please halp me . Thanks sir

    VA:F [1.9.22_1171]
    Rating: 0 (from 0 votes)
  4. Kiya ham 10 sal bad bhi lebar kort ja sakte hi ..
    Hame 2005 Me vikas piradhikarad se nikal diya tha jisme ki kuch ne korat chle gaye jo ki behe 2012 me haikort ke aades par bapas bula liya..
    To kiya hum bhi korat ja sakte hi..

    VA:F [1.9.22_1171]
    Rating: 0 (from 0 votes)
  5. मेंपिछले नो साल से कनारा bank में पार्टटाइम काम कर रहा रहा बैंक के मैनेजर साहब ने मेरी जगह अपने िक्तियको नियक्त करा दिया हे मेरे पास नो साल का पूरा पूर्फ हे
    जब की mene नो साल से बैंक की seba की
    मेने आर टी आई भी की बैंक बालो ने मुझे गलत.सुचना दी अब मुझे क्या करना चाहिए
    प्लीज मुझे बताय में क्या करू
    जिससे मुझे
    नौकरी मिले

    VA:F [1.9.22_1171]
    Rating: 0 (from 0 votes)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *


Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)