बालाकृष्णन ने किया संपत्ति की सूचनाओं का खुलासा करने से इनकार!! आखिर क्यों?

पूर्व चीफ जस्टिस एवं राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग के मौजूदा अध्यक्ष के. जी. बालाकृष्णन ने संपत्ति से संबंधित सूचनाओं के गलत इस्तेमाल की आशंका जताते हुए इनकम टैक्स अधिकारियों से 19 अप्रैल को कहा कि वह अपनी संपत्ति का खुलासा नहीं कर सकते। आरटीआई कार्यकर्ता पी. बालाचंद्रन की ओर से इनकम टैक्स डिपार्टमेंट से न्यायमूर्ति बालाकृष्णन की संपत्ति की सूचना मांगे जाने पर आयकर अधिकारियों ने यह जानकारी दी।

उन्होंने कहा कि पूर्व मुख्य न्यायाधीश ने हलफनामा दाखिल किया है कि वह अपनी सम्पत्ति को सार्वजनिक नहीं कर सकते और इससे संबंधित सभी जरूरी जानकारी सुप्रीम कोर्ट की वेबसाइट पर मौजूद है। यमूर्ति बालाकृष्णन से उनका पैन नंबर और बैंक खाते का ब्यौरा मांगा गया था। उन्होंने हलफनामे में कहा कि इन सूचनाओं को सार्वजनिक नहीं किया जा सकता क्योंकि इनका गलत इस्तेमाल हो सकता है और उनके खाते में से फर्जी तरीके से पैसा निकाला जा सकता है।

एक दूसरी खबर के अनुसार उन्होंने कहा है कि इस सूचना से किसी भी तरह का लोक कल्याण नहीं होने वाला। पूर्व चीफ जस्टिस ने कहा कि उनकी और उनके परिवार की संपत्ति का खुलासा करना उनकी निजता का उल्लंघन होगा।

आरटीआई आवेदनकर्ता टी. बालचंद्रन ने आयकर विभाग से बालाकृष्णन, उनके बेटे बी. प्रदीप, दोनों बेटियों सोनी और रानी, दामादों जे. बेनी और वी श्रीनिजन के साथ ही भाई भास्करन के खिलाफ की गई जांच की विस्तृत जानकारी मांगी है। साथ ही बालाकृष्णन के 2005-06 से 2009-10 तक के आयकर रिटर्न की सत्यापित प्रति भी मांगी गई है।

VN:F [1.9.22_1171]
Rating: 0.0/10 (0 votes cast)
Print Friendly, PDF & Email

5 thoughts on “बालाकृष्णन ने किया संपत्ति की सूचनाओं का खुलासा करने से इनकार!! आखिर क्यों?”

  1. जनता पाजियों से सब उगलवा लेगी -तनिक सब्र रखा जाय !

    VA:F [1.9.22_1171]
    Rating: 0 (from 0 votes)
  2. श्रीमान जी,मैंने अपने अनुभवों के आधार ""आज सभी हिंदी ब्लॉगर भाई यह शपथ लें"" हिंदी लिपि पर एक पोस्ट लिखी है. मुझे उम्मीद आप अपने सभी दोस्तों के साथ मेरे ब्लॉग http://www.rksirfiraa.blogspot.com पर टिप्पणी करने एक बार जरुर आयेंगे.ऐसा मेरा विश्वास है.

    VA:F [1.9.22_1171]
    Rating: 0 (from 0 votes)
  3. श्रीमान जी, क्या आप हिंदी से प्रेम करते हैं? तब एक बार जरुर आये. मैंने अपने अनुभवों के आधार ""आज सभी हिंदी ब्लॉगर भाई यह शपथ लें"" हिंदी लिपि पर एक पोस्ट लिखी है. मुझे उम्मीद आप अपने सभी दोस्तों के साथ मेरे ब्लॉग http://www.rksirfiraa.blogspot.com पर टिप्पणी करने एक बार जरुर आयेंगे. ऐसा मेरा विश्वास है.

    श्रीमान जी, हिंदी के प्रचार-प्रसार हेतु सुझाव :-आप भी अपने ब्लोगों पर "अपने ब्लॉग में हिंदी में लिखने वाला विजेट" लगाए. मैंने भी कल ही लगाये है. इससे हिंदी प्रेमियों को सुविधा और लाभ होगा.

    VA:F [1.9.22_1171]
    Rating: 0 (from 0 votes)
  4. क्या ब्लॉगर मेरी थोड़ी मदद कर सकते हैं अगर मुझे थोडा-सा साथ(धर्म और जाति से ऊपर उठकर"इंसानियत" के फर्ज के चलते ब्लॉगर भाइयों का ही)और तकनीकी जानकारी मिल जाए तो मैं इन भ्रष्टाचारियों को बेनकाब करने के साथ ही अपने प्राणों की आहुति देने को भी तैयार हूँ. आज सभी हिंदी ब्लॉगर भाई यह शपथ लें

    अगर आप चाहे तो मेरे इस संकल्प को पूरा करने में अपना सहयोग कर सकते हैं. आप द्वारा दी दो आँखों से दो व्यक्तियों को रोशनी मिलती हैं. क्या आप किन्ही दो व्यक्तियों को रोशनी देना चाहेंगे? नेत्रदान आप करें और दूसरों को भी प्रेरित करें क्या है आपकी नेत्रदान पर विचारधारा?

    VA:F [1.9.22_1171]
    Rating: 0 (from 0 votes)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *


Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)