धारा 156 (3) के अंतर्गत प्राप्त होने वाले प्रार्थना पत्रों पर एफआईआर दर्ज करने की अनिवार्यता के आदेश पर रोक

सुप्रीम कोर्ट ने राजस्थान हाईकोर्ट द्वारा दण्ड़ प्रक्रिया संहिता की धारा 156 (3) के अंतर्गत प्राप्त होने वाले प्रार्थना पत्रों पर अनिवार्य रूप से प्रथम सूचना रिपोर्ट (एफआईआर) दर्ज करने के आदेश पर रोक लगाते हुए सम्बन्घित पक्षों को नोटिस जारी किए हैं। राजस्थान सरकार की एक विशेष अनुमति याचिका पर 11 मई को को राजस्थान सरकार बनाम बाबूलाल एवं अन्य मामले में न्यायाधीश ए कबीर और न्यायाधीश एचएल गोखले की खण्डपीठ ने सुनवाई की। राजस्थान सरकार की ओर से अतिरिक्त महाधिवक्ता डॉं. मनीष सिंघवी ने पैरवी की।

राजस्थान हाईकोर्ट ने 27 मार्च 2009 को आदेश दिया था कि भारतीय दंड संहिता की धारा 156 (3) के अंतर्गत यदि कोई प्रार्थना पत्र प्राप्त होता है तो मजिस्ट्रेट को उस पर एफआईआर दर्ज कराने और मामले की जांच करने का आदेश अनिवार्य रूप से देना होगा।

इस आदेश के विरूद्घ राज्य सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में एक विशेष अनुमति याचिका दर्ज की। राज्य सरकार की ओर से कहा गया कि न्यायाधीश को इस प्रकार की किसी बाध्यता के बजाए अपने विवेक से मामले को देखना चाहिए और अपने विवेकाधिकार का उपयोग करने के बाद ही एफआईआर दर्ज करने के संबंध में कोई आदेश देना चाहिए, क्योंकि कई बार एफआईआर दर्ज करवाने के पीछे अनेक झूठी शिकायतें और बदनीयती पाई जाती है। ऎसी स्थिति में न्यायाधीशों को अपने स्व-विवेक का उपयोग करते हुए आदेश पारित करने चाहिए।

VN:F [1.9.22_1171]
Rating: 6.6/10 (18 votes cast)
धारा 156 (3) के अंतर्गत प्राप्त होने वाले प्रार्थना पत्रों पर एफआईआर दर्ज करने की अनिवार्यता के आदेश पर रोक, 6.6 out of 10 based on 18 ratings
Print Friendly, PDF & Email
यहाँ आने के लिए इन मामलों की हुई तलाश:
  • dhara 156
  • dhara 156 3
  • 156(3) crpc in hindi
  • dhara 156/3
  • dhara 156 in hindi
  • dhara 156 ipc
  • dhara 156(3) crpc in hindi
  • धारा 156
  • धारा 156(3)
  • ipc 156(3) in hindi
  • dhara156

4 thoughts on “धारा 156 (3) के अंतर्गत प्राप्त होने वाले प्रार्थना पत्रों पर एफआईआर दर्ज करने की अनिवार्यता के आदेश पर रोक”

  1. सेवा में श्रीमान जी विन्रम निवेदन है, की धारा 156/3 के सब झुठे मुकदमे दायर किये जाते जिसमें डा० की फर्जी रिर्पोट लगायी जाती है| जिससे दोनो पक्ष बर्बाद हो जाते है और फर्जी मुकदमे बनाने बाले दलाल गरीब किसान को लूटे खाये जा रहें हैं जिससे भुख मरी अशिक्षा बेरोज्रगारी दे श की सब उन्न्ती कमजोर हो रही हैं | अत: श्रीमान निवेदन है कि फर्जी 156 /3 के मुकदमो पर रोक लगायी जाये|

    VA:F [1.9.22_1171]
    Rating: +1 (from 1 vote)
    1. बिलकुल राइट सर ऐसा हादसा मेरे साथ २६/८/२०१७ को होते हुए बचा जमीनी विवाद को लेकर वो ४२० के तरीके से जमीन लेना चाहता था लेकिन हमारे २५/८/२०१७ कोko मना करने पर उसने अगले दिन वकील से मिलकर धारा 156/३ की एफ आई आर दर्ज कराइ फिर कोतवाली सेse मुझे और mere चाचा जी को पुलिस ले गई काफी पूछ टाँच के बाद मैंने जो जमीन के मामले की वीडियो क्लिप बना ली thi वही मैंने कोतवाल साहब को दिखाई तो मामला समझ में आया औरaur फिर हमें और चाचाchacha जीji कोko अपनी अपनी दुकानों पे कॉन्स्टेबल से स्वतः छोड़ने को आदेश दिय ऐसे पता नहीं ऐसे ये भेड़िये पतानहीं समाज में rah कर किसको apna chnd रुपयों के चक्क्र मेंme किस गारीब औरur छोटे लोगो कोko अपना निशाना बनाbana कर जिंदगी को बर्बाद कर दे 8896839451

      VA:F [1.9.22_1171]
      Rating: 0 (from 0 votes)
    2. बिलकुल राइट सर ऐसा हादसा मेरे साथ २६/८/२०१७ को होते हुए बचा जमीनी विवाद को लेकर वो ४२० के तरीके से जमीन लेना चाहता था लेकिन हमारे २५/८/२०१७ कोko मना करने पर उसने अगले दिन वकील से मिलकर धारा 156/३ की एफ आई आर दर्ज कराइ फिर कोतवाली सेse मुझे और mere चाचा जी को पुलिस ले गई काफी पूछ टाँच के बाद मैंने जो जमीन के मामले की वीडियो क्लिप बना ली thi वही मैंने कोतवाल साहब को दिखाई तो मामला समझ में आया औरaur फिर हमें और चाचाchacha जीji कोko अपनी अपनी दुकानों पे कॉन्स्टेबल से स्वतः छोड़ने को आदेश दिय ऐसे पता नहीं ऐसे ये भेड़िये पतानहीं समाज में rah कर किसको apna chnd रुपयों के चक्क्र मेंme किस गारीब औरur छोटे लोगो कोko अपना निशाना बनाbana कर जिंदगी को बर्बाद कर दे

      VA:F [1.9.22_1171]
      Rating: 0 (from 0 votes)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)