न्यायाधीश को रिटायर्ड नहीं किया जाना चाहिए : पूर्व चीफ जस्टिस

सर्वोच्च न्यायालय के पूर्व प्रधान न्यायाधीश आऱ सी़ लाहोटी ने कहा है कि न्यायाधीश को रिटायर्ड नहीं किया जाना चाहिए, बल्कि उसके अनुभव का लाभ कानून अथवा अन्य मामलों में लिया जाना चाहिए। ग्वालियर में सेवा निवृत्त न्यायाधीशों के कार्यक्रम में हिस्सा लेने के बाद पत्रकारों से चर्चा करते हुए न्यायमूर्ति लाहोटी ने कहा कि जज को सेवानिवृत्त होने पर पेंशन दी जाती है जबकि जरूरत पूरे वेतन की होती है। उनका मानना है कि 62 वर्ष में जब न्यायाधीश को सेवा निवृत्त किया जाता है तब वह पूरी तरह परिपक्व होता है। इसलिए उसके अनुभव का लाभ लिया जाना चाहिए।

न्यायमूर्ति लाहोटी ने अमेरिका का जिक्र करते हुए कहा कि वहां न्यायाधीशों की पूर्णकालिक नियुक्ति होती है अर्थात उन्हें सेवा निवृत्त नहीं किया जाता। यही व्यवस्था भारत में भी लागू की जाना चाहिए। न्यायमूर्ति लाहोटी ने कहा कि वह अन्य क्षेत्रों में भी वरिष्ठजनों के अनुभव का लाभ लिए जाने के पक्ष में है।

न्यायमूर्ति लाहोटी ने एक सवाल के जवाब में कहा कि न्यायपालिका, कार्यपालिका और विधायिका के बीच एक निश्चित दूरी जरूरी है। यह दूरी लोकतंत्र को जिन्दा रखने के लिए आवश्यक भी है। उनका मानना है कि अगर तीनों स्तंभ करीब आकर एक दूसरे में घुल-मिल गए तो उन्हें किसी की खामी नजर नहीं आएगी और यह स्थिति लोकतंत्र के लिए घातक होगी।

VN:F [1.9.22_1171]
Rating: 0.0/10 (0 votes cast)
Print Friendly, PDF & Email

One thought on “न्यायाधीश को रिटायर्ड नहीं किया जाना चाहिए : पूर्व चीफ जस्टिस”

  1. एक हद तक मुख्य न्यायाधीश की यह बात सही है कि जजों को रिटायर नहीं किया जाना चाहिए। लेकिन यह बात जमी नहीं कि उन्हें 62 वर्ष की उम्र में पूरे वेतन की आवश्यकता होती है। अन्य पेशों में तो पेंशन ही समाप्त की जा रही है। न्यायाधीशों को भी अन्य लोगों के साथ देश और समाज की स्थिति के अनुरूप चलना होगा। क्या अन्य लोगों को पूरे वेतन की जरूरत नहीं होती और क्या जो लोग सरकारी नौकरी के अलावा अन्य नौकरियाँ करते हैं वे इंन्सान नहीं होते? यह सुविधा सारी जनता के पास किसी न किसी रूप में अवश्य होनी चाहिए।

    VA:F [1.9.22_1171]
    Rating: 0 (from 0 votes)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *


Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)